Gaganyaan Crew Module Test: कब कहां और कैसे LIVE देखें crew module की टेस्टिंग? बस करना होगा ये काम
|

Gaganyaan Crew Module Test: कब कहां और कैसे LIVE देखें crew module की टेस्टिंग? बस करना होगा ये काम

Chandrayaan-3 के सफल लैंडिंग और Surya के मिशन Aditya-L1 के सफल लॉन्च के बाद, ISRO एक और बड़ा कदम उठाने जा रहा है। आज (शनिवार) सुबह 8.45 बजे ISRO देश के पहले मैन्ड मिशन Gaganyaan के capsule के एक प्रमाणित डूबकी का परीक्षण करेगा। परीक्षण वाहन अबॉर्ट मिशन-1 को Satish Dhawan स्पेस सेंटर से Sriharikota में 8.45 बजे प्रक्षेपित किया जाएगा। इस मिशन में वो प्रणाली परीक्षण की जाएगी जो रॉकेट में किसी भी खराबी के मामले में अंतरिक्ष यातायाती को सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर ले जाएगी। यहां बताया जा रहा है कि आप इस capsule के capsule की परीक्षण को लाइव देखने के लिए कैसे देख सकते हैं।

कैसे देखें capsule की परीक्षण को live?

आपको जान लेना चाहिए कि आज Indian अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) देश के पहले मैन्ड मिशन Gaganyaan के लिए बड़ा परीक्षण करने जा रहा है। वास्तव में, अब कुछ समय बाद, Gaganyaan मिशन के capsule की अग्नि उड़ान Andhra Pradesh के Sriharikota से होगी। ISRO मुख्य एस. सोमनाथ ने कहा कि यह capsule की परीक्षण है, जिसमें नया रॉकेट उपयोग किया जाएगा। यह एक तरल इंजन से प्रदान जोड़़ द्वारा चलाया जाने वाला रॉकेट है। उसके ऊपर Pro Module और Pro Escape system होगा। यह जानना महत्वपूर्ण है कि इस परीक्षण में यातायाती मॉड्यूल को प्रक्षिप्त करने, उसे पृथ्वी पर वापस लाने और उसे समुंदर से पुनः प्राप्त करने की प्रक्रिया शामिल होती है। यदि आप capsule की परीक्षण को लाइव देखना चाहते हैं, तो आप इसको ISRO की आधिकृत YouTube चैनल पर जाकर देख सकते हैं। इसके अलावा, आप ISRO की Facebook पेज और website पर भी परीक्षण को लाइव देख सकते हैं।

कैसे होगा यातायाती module का परीक्षण?

प्रयोग में, यातायाती एस्केप सिस्टम को एक rocket स्टेज तरल rocket से अंतरिक्ष में प्रक्षिप्त किया जाएगा।

  • यातायाती एस्केप सिस्टम rocket से ऊंचाई 11.7 किलोमीटर पर से अलग हो जाएगा।
  • यातायाती एस्केप सिस्टम जैसे ही rocket से अलग होगा, वह नीचे आ जाएगा।
  • इसके बाद, यातायाती module यातायाती एस्केप सिस्टम से अलग होगा।
  • और यातायाती module में लगे दो पैराशूट खुल जाएंगे।
  • कुछ देर बाद मुख्य पैराशूट खुलेगा, जो module की रफ्तार को बहुत कम कर देगा.
  • फिर crew module Sriharikota में तट से करीब 10 किलोमीटर दूर समुद्र में उतरेगा.
  • इसके बाद Navy की टीम crew module को समुद्र से निकालेगी और crew escape system और rocket को रिकवर करेगी.

Crew escape system की परीक्षण क्यों की जा रही है?

वास्तव में, इस crew escape system का परीक्षण मिशन में किसी भी अप्रत्याशित घटना के मामले में अंतरिक्ष यातायाती को बचाने में उपयोगी होगा। अगर मिशन के लॉन्च के दौरान कुछ गड़बड़ी होती है, तो यह सिस्टम यातायाती module के साथ वाहन से अलग होकर यातायाती को सुरक्षित रूप से समुंदर में उतराएगा। जानिए कि एक मानव मिशन को अंतरिक्ष में भेजने से पहले, ISRO ऐसे कई परीक्षण करेगा ताकि यातायाती की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। Gaganyaan India की पहली मैन्ड अंतरिक्ष मिशन है, जिसे अगले साल के अंत या 2025 की शुरुआत तक भेजा जा सकता है। इससे पहले, 2024 में एक अमैन्ड टेस्ट उड़ान होगी, जिसमें एक Vyommitra robot भेजा जाएगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *