Haridwar में त्रासदी, परिवार द्वारा गंगा में अंधविश्वासी अनुष्ठान करने से बच्चे की हुई मौत

Haridwar में त्रासदी, परिवार द्वारा गंगा में अंधविश्वासी अनुष्ठान करने से बच्चे की हुई मौत

Haridwar में हुआ दुखद हादसा, विशेष रूप से किसी समुदाय में अद्भूत तांत्रिक प्रथाओं और विश्वास में गहरे प्रभाव को दर्शाता है। बच्चे के माता पिता, अपने बेटे को ब्लड कैंसर से पीड़ित होते हुए भी उसके उपचार के लिए असमर्थ हो जाते हैं। इसके बावजूद, उनका विश्वास उनके बच्चे के उपचार के लिए बहुत गहरा है।

इस माँ की दर्दनाक कवणाएँ उसकी बहन के लिए दृश्यमान नहीं हैं। उसने एक बाबा से संपर्क किया, जो उसे बताता है कि बच्चे को गंगा में डुबाने से वह ठीक हो जाएगा। इसके बाद, महिला का परिवार बच्चे के साथ Haridwar की हरिकी पौड़ी पहुँचता है। वायरल हो रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि बच्चे को उसकी माँ, पिताजी और मौसी ने पाँच मिनट के लिए गंगा में डाला।

इस वीडियो को देखकर हरिकी पौड़ी के पास मौजूद लोग हैरान हो जाते हैं। पहले वे कुछ समझ नहीं पा रहे होते हैं, लेकिन धीरे-धीरे जब उन्हें यह समझ में आता है कि यह तांत्रिक प्रथा का मामला है, तो वे बच्चे को उसकी मौसी  से छीन लेते हैं और पुलिस को सूचित करते हैं।

मासूम बच्चे की दुःखद मौत

सूचना प्राप्त होने पर, पुलिस स्थान पर पहुँचती है। पुलिस बच्चे को अस्पताल में दाखिल कराती है, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। बच्चे की जिंदगी को बचाना मुश्किल हो चूका था । बच्चा मर जाता है। एक निर्दोष ब्लड कैंसर से पीड़ित बच्चे को पता नहीं रहा होगा कि उसके अपने ही उसकी जान ले लेंगे. गंगा मैं डुबोए जाने से तड़प-तड़पकर उसकी मौत हो जाती है.

ब्लड कैंसर से पीड़ित था मासूम उसे नहीं पता होगा कि उसके अपने लोग ही उसकी जिंदगी ले लेंगे। गंगा में डालने के बाद वह दर्द से मर जाता है।

पुलिस पुछताछ में पता चला कि बच्चा ब्लड कैंसर से पीड़ित था और दिल्ली के एक अस्पताल में उसका उपचार हो रहा था, लेकिन जब डॉक्टर्स हार मान गए, परिवार के सदस्य आस्था में हरिद्वार पहुँचे और बच्चे को गंगा में नहलाने लगे। मौत का कारण केवल पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा। शहर SP स्वतंत्र कुमार ने इसकी सूचना दी।

शहर SP स्वतंत्र कुमार ने कहा कि आरोपी परिवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस परिवार में उसके पिताजी, माँ और मौसी शामिल थे। ये लोग बच्चे को दिल्ली से लाए थे। बच्चा ब्लड कैंसर से पीड़ित था। किसी बाबा ने इन लोगों को बताया था कि Haridwar में गंगा में बच्चे को नहलाने से वह ठीक हो जाएगा। बाबा के प्रभाव में आकर, ये लोग हरिकी पौड़ी पहुँचे और बच्चे को नहलाने लगे। वीडियो में बच्चे को गंगा मैं डुबाने वाली महिला उसकी मौसी है।

Similar Posts