Uttarakhand सरकार ने बंदरों के हमले के लिए मुआवजे की घोषणा की,चोटों के लिए 1 लाख रुपये तक, मौत के मामले में 6 लाख रुपये तक मुआवजे का एलान

Uttarakhand सरकार ने बंदरों के हमले के लिए मुआवजे की घोषणा की,चोटों के लिए 1 लाख रुपये तक, मौत के मामले में 6 लाख रुपये तक मुआवजे का एलान

Uttarakhand सरकार, मुख्यमंत्री Pushkar Singh Dhami के नेतृत्व में, सरकार ने ऐसा एक बड़ा निर्णय लिया है जिसके तहत उन लोगों को मुआवजा मिलेगा जो राज्य में बंदरों के हमलों का शिकार होते हैं। रोज़ाना की बढ़ती हुई बंदरों की आतंकिता को देखते हुए इस निर्णय का लक्ष्य है।

सरकार के इस निर्णय के अनुसार:

1. बंदरों के काटने पर मुआवजा: ऐसे व्यक्तियों को मुआवजा मिलेगा जो बंदरों के काटने से घायल होते हैं, और इसका मुआवजा 15,000 रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक हो सकता है।

2. अक्षमता मुआवजा: ऐसे मामलों में जब व्यक्ति बंदरों के हमले के कारण अक्षम होता है, तो उसे 3 लाख रुपये का मुआवजा प्रदान किया जाएगा।

3. मौत के मामले में मुआवजा: अगर कोई व्यक्ति बंदरों के हमले की वजह से जान गंवा देता है, तो परिवार को 6 लाख रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी।

मुआवजा राशियों को बंदरों के हमलों के परिणामों की गंभीरता के अनुसार निर्धारित किया गया है। इस मुआवजे की वितरण की जिम्मेदारी वन विभाग और स्थानीय प्राधिकृतियों को होगी। पीड़ितों के परिवार सटीक मुआवजे के लिए विभाग से संपर्क कर सकते हैं, जो राशि एकबार में प्रदान की जाएगी।

इसके अलावा, ऐसा लगता है कि वन विभाग द्वारा बंदरों को पकड़ने के लिए एक अभियान चल रहा है। यह पहल उन लोगों की मुश्किलें कम करने के लिए है जो न केवल लोगों को चोट पहुंचा रहे हैं बल्कि खेतों में फसलें भी नष्ट कर रहे हैं। राज्य सरकार का यह निर्णय Uttarakhand में बढ़ते बंदरों के हमलों के सामने एक गंभीर समस्या का सामना करने और प्रभावित लोगों को समर्थन प्रदान करने का प्रयास है।

Similar Posts