Uttarkashi Tunnel Collapse: PM Modi ने CM Dhami से phone पर की बात, rescue operation के बारे में ली जानकारी

Uttarkashi Tunnel Collapse: PM Modi ने CM Dhami से phone पर की बात, rescue operation के बारे में ली जानकारी

Silkyara Tunnel के निर्माण के दौरान फंसे मजदूरों को बचाने के लिए Yamunotri Highway पर चल रहे टनल में रेस्क्यू कार्य किया जा रहा है। इसके लिए भारी खुदाई मशीनें लाई गई हैं ताकि सड़क से ऊपर के इलाके को साफ किया जा सके। इस बीच, प्रधानमंत्री Narendra Modi ने CM Pushkar Singh Dhami से टनल में फंसे लोगों के बारे में जानकारी ली।

मुख्यमंत्री Pushkar Singh Dhami ने बताया कि विभिन्न राज्य और केंद्रीय एजेंसियां सहमति और त्वरितता के साथ राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई हैं। CM Dhami ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर लिखा कि इस दौरान, उसे फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए की जा रही राहत और बचाव कार्यों की जानकारी मिली।

CM ने और लिखा, ‘आज उन्होंने खुद घटना स्थल का निरीक्षण किया और अधिकारियों को त्वरितता से बचाव कार्य के लिए आवश्यक उपकरण प्रदान करने के लिए निर्देश दिया। टनल के अंदर फंसे सभी मजदूर सुरक्षित हैं और उन्हें जल्दी बाहर निकालने के लिए हर प्रयास किया जा रहा है। सीधे क्षेत्र में केंद्रीय एजेंसियां और विशेषज्ञों को स्थानीय प्रशासन को बचाव कार्य में सहायक करने के लिए भी तैनात किया गया है।

बता दें कि Chardham Road परियोजना के तहत, Yamunotri Highway पर Silkyara से Polgaon तक राज्य का सबसे लंबा टनल (4.5 किमी) बना रहा है। जिसमें अब केवल टनल को पार करने के लिए लगभग 500 मीटर बचा है। मजदूर दिन-रात दो पार्श्वभूमि पर इस टनल के निर्माण पर काम कर रहे हैं।

शनिवार रात 8 बजे को शिफ्ट शुरू हुई थी। जिसमें 40 से 50 मजदूर काम करने गए थे। यह शिफ्ट रविवार को बड़ी Diwali के दिन 8 बजे खत्म होने वाली थी। जिसके बाद सभी मजदूर Diwali छुट्टी के रूप में बड़े उत्साह से मनाने के लिए थे। लेकिन इससे पहले, टनल के Silkyara मुँह के 230 मीटर अंदर ही टनल टूट गया। पहले सिरमेंट धीरे-धीरे गिरा था। जिसे सभी ने हल्के में लिया।

फिर अचानक एक बड़ी मात्रा में सिरमेंट गिरा और टनल बंद हो गया। इस समय 3-4 मजदूर अपनी जान बचाने के लिए भाग गए। लेकिन दूसरे टनल के अंदर फंस गए। जिनकी संख्या कही जा रही है कि लगभग 35 से 40 है। टनल के निर्माण कार्य में लगे Jharkhand निवासी मजदूर Hemant Nayak ने कहा कि एक 12 घंटे के शिफ्ट में लगभग 65 से 70 मजदूर काम करते हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *