Ram Mandir के लिए सिविल जज बीर सिंह के फैसले की नींव पर, 74 साल पहले का यह ऐतिहासिक निर्णय क्यों इतना महत्वपूर्ण

Ram Mandir के लिए सिविल जज बीर सिंह के फैसले की नींव पर, 74 साल पहले का यह ऐतिहासिक निर्णय क्यों इतना महत्वपूर्ण

Ram Mandir: समर्पण का समय आ गया है। फैजाबाद के तब के सिविल जज Bir Singh, जिन्होंने सुरक्षित दर्शन और मूर्तियों के हटाए जाने को 74 वर्ष पहले प्रतिबंधित किया था, मुजफ्फरनगर के दुधली गाँव में जन्मे थे। किसान परिवार के बेटे ने न्याय की क़लम से अद्वितीय साक्षरता बनाई। Bir Singh के बेटे केके सिंह भी फैजाबाद के जिला न्यायाधीश रहे। मदन बलियान/संजय गर्ग की रिपोर्ट…

दुधली एक स्वतंत्रता सेनानियों का गाँव है। यहाँ के द्वार से निकले सैनिकों ने पूरी उम्मीद के साथ देश की सेवा की। इंग्लैंड से बार एट लॉ की डिग्री प्राप्त करने के बाद Bir Singh न्यायाधीश बने। फैजाबाद में सिविल जज बने हुए, Bir Singh ने 16 जनवरी 1950 को विवादित स्थल से मूर्ति की हटाई जाने का प्रतिबंध लगा दिया था। उनके भतीजे राजबहादुर सिंह, प्रयागराज में अत्यंत सरकारी प्रतिनियुक्त वकील, कहते हैं कि भक्त गोपाल सिंह विशारद और पुजारी रामचंद्र दास परमहंस के मामले में, सिविल जज ने एक कमीशन भेजा और रिपोर्ट के लिए कहा और कानून की सीमा के अंदर, उन्होंने मूर्ति की हटाई जाने की अनुमति देकर पूजा की अनुमति दी थी। इस निर्णय को High Court में चुनौती दी गई, लेकिन न्यायाधीश का आदेश कानूनी माना गया।

परमहंस Haridwar जा रहे समय अपने घर पहुंचे।

राजबहादुर के अनुसार, परमहंस ने Ram Mandir आंदोलन के दौरान Haridwar जा रहे समय Bir Singh के निवास पर पहुंच लिया था। पूर्व प्रधान महेन्द्र सिंह कहते हैं, Bir Singh कहते थे कि अगर न्यायाधीश पैसे लेता है, तो दल बर्बाद हो जाएगा।

राय साहेब का परिवार ने एक नई कहानी लिखी

दुधली के ठाकुर लेखपाल सिंह ने ब्रिटिश शासन के दौरान राय साहेब के नाम से प्रसिद्ध हो गए। वे एक ग्रामीण क्षेत्र से पहले स्नातक थे। ब्रिटिश शासन में पटवारी के रूप में शामिल होने के बाद, उन्होंने कलेक्टर के पद से सेवानिवृत्त हो गए। उनके पाँच पुत्रों में सबसे छोटा Bir Singh थे। दूसरा ब्रह्मा सिंह किसान थे, तीसरा बीबी सिंह ब्रिटिश युग में ICS अधिकारी थे। चौथा दुर्गा सिंह कृषि निरीक्षक थे और पाँचवा चंद रूप सिंह सरकारी कर्मचारी थे। न्यायिक Bir Singh के बेटे केके सिंह भी फैजाबाद के तब के जिला न्यायाधीश रहे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *